Please wait, loading...

Latest Updates


latest-post-marquee ग्राहक को जेब में पैसे के मुताबिक मिलेगी एलपीजी गैस, सरकार ने दिया विकल्‍प latest-post-marquee डिजिटल फार्मिंग से भरेगा दुनिया का पेट, बदल रही तकनीक, आधुनिक हो रहे किसान latest-post-marquee थाई बॉक्सिंग वर्ल्ड चैंपियन टिकेश्वरी ने कभी मनचलों को सिखाया था ऐसा सबक latest-post-marquee शोधार्थियों को फेलोशिप में बढोत्तरी को लेकर अब नहीं करना पड़ेगा आंदोलन latest-post-marquee एयरपोर्ट पर शक्ति कपूर से मिले क्रिकेटर युवराज सिंह, ये स्टार्स भी दिखे, देखें तस्वीरें latest-post-marquee फर्जी बिल के आधार पर न लें टैक्स छूट, भरना पड़ सकता है इतना जुर्माना latest-post-marquee SBI Small Account: कैसे खुलता है ये खाता, कितना मिलता है ब्याज, जानिए सब कुछ latest-post-marquee Ind vs NZ: हार्दिक पांड्या ने फिर किया ये कमाल, छुड़ा दिए न्यूज़ीलैंड के पसीने

Read Full News

नई डिवाइस से दूर होगी यूरिन इन्फेक्शन से संबंधी समस्या

शोधकर्ताओं ने यह डिवाइस विकसित की है। इससे मूत्रशय में अतिसक्रियता की पहचान करने के साथ ही बायोइंटिग्रेटेड एलईडी के प्रकाश के उपयोग से उसे ठीक भी किया जा सकता है।

वैज्ञानिकों ने एक ऐसी नन्ही डिवाइस विकसित की है जिसे प्रत्यारोपित किया जा सकता है। इस डिवाइस से उन लोगों के इलाज में मदद मिल सकती है जो मूत्रशय (ब्लैडर) संबंधी समस्याओं से पीड़ित हैं। अमेरिका की वाशिंगटन यूनिवर्सिटी और नार्थवेस्टर्न यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने यह डिवाइस विकसित की है। इससे मूत्रशय में अतिसक्रियता की पहचान करने के साथ ही बायोइंटिग्रेटेड एलईडी के प्रकाश के उपयोग से उसे ठीक भी किया जा सकता है।

शोधकर्ताओं ने प्रयोगशाला में चूहों पर किए गए परीक्षण में पाया कि इस डिवाइस से उन लोगों को मदद मिल सकती है जिन्हें बार-बार पेशाब करने की जरूरत पड़ती है। ऐसे लोगों को मूत्रशय की अतिसक्रियता के चलते दर्द, जलन और बराबर पेशाब करने की समस्या का सामना करना पड़ता है। इस डिवाइस से ऐसे लोगों को राहत मिल सकती है।

ब्‍लैडर संक्रमण को साइस्‍ट‍िसिस और ब्‍लैडर में सूजन भी कहा जाता है। यह समस्‍या महिलाओं में काफी सामान्‍य है, लेकिन आमतौर पर पुरुष इस समस्‍या से ग्रस्‍त नहीं होते। कुछ दुलर्भतम मामलों में ही पुरुषों को इससे पीडि़त देखा जाता है। एक अनुमान के अनुसार आधे से अधिक महिलायें अपने जीवन में कभी न कभी ब्‍लैडर संक्रमण से जरूर प्रभावित होती हैं। हालांकि, पुरुषों में यह रोग काफी असामान्‍य है, लेकिन उम्र के साथ उनमें भी ब्‍लैडर संक्रमण होने की आशंका बढ़ जाती है। ऐसा अंडकोश के आकार में बढ़ोत्तरी होने के कारण होता है।

एंटीबायोटिक्‍स

ब्‍लैडर इनफेक्‍शन संबंधी परेशानी होने पर ज्‍यादातर डॉक्‍टरों द्वारा रोगी को एमोक्‍सीसिलिन, एम्‍पीसिलिन और सिपरोफ्लोक्‍सिन का सेवन करने की सलाह दी जाती हैं।

पानी और बेकिंग सोडा

पानी और बेकिंग सोडे का इस्‍तेमाल आपको ब्‍लैडर इनफेक्‍शन में राहत पहुंचाएगा। यह भी इस रोग का घरेलू उपचार है। मूत्राशय कैंसर की परेशानी में एक कप पानी में आधी चम्‍मच बेकिंग सोडा मिलाकर पीने से फायदा मिलेगा।

क्रेनबेरी

क्रेनबेरी या करौंदा, यह बेर के आकार का छोटा और स्‍वाद में खट्टा फल होता है। करौंदे का सेवन ब्‍लैडर इनफेक्‍शन में बहुत फायदेमंद होता है और यह एक घरेलू उपाय है।

तरल पदार्थो का सेवन

ज्‍यादा से ज्‍यादा मात्रा में पानी पीना आपको ब्‍लैडर इनफेक्‍शन होने के दौरान और इसके ठीक होने के बाद भी फायदेमंद रहता है। ज्‍यादा मात्रा में पानी पीने से आपका कई रोगों से बचाव होता है। 

OTHER NEWS