Please wait, loading...

Latest Updates


latest-post-marquee ग्राहक को जेब में पैसे के मुताबिक मिलेगी एलपीजी गैस, सरकार ने दिया विकल्‍प latest-post-marquee डिजिटल फार्मिंग से भरेगा दुनिया का पेट, बदल रही तकनीक, आधुनिक हो रहे किसान latest-post-marquee थाई बॉक्सिंग वर्ल्ड चैंपियन टिकेश्वरी ने कभी मनचलों को सिखाया था ऐसा सबक latest-post-marquee शोधार्थियों को फेलोशिप में बढोत्तरी को लेकर अब नहीं करना पड़ेगा आंदोलन latest-post-marquee एयरपोर्ट पर शक्ति कपूर से मिले क्रिकेटर युवराज सिंह, ये स्टार्स भी दिखे, देखें तस्वीरें latest-post-marquee फर्जी बिल के आधार पर न लें टैक्स छूट, भरना पड़ सकता है इतना जुर्माना latest-post-marquee SBI Small Account: कैसे खुलता है ये खाता, कितना मिलता है ब्याज, जानिए सब कुछ latest-post-marquee Ind vs NZ: हार्दिक पांड्या ने फिर किया ये कमाल, छुड़ा दिए न्यूज़ीलैंड के पसीने

Read Full News

वैज्ञानिक डॉ. सुब्रह्मण्यम ने कहा, राफेल से बेहतर कोई फाइटर प्लेन नहीं

राफेल लड़ाकू विमान पर राजनीति थमने का नाम नहीं ले रही है। इस बीच इसरो से सेवानिवृत्त वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. नागास्वामी शिवा सुब्रह्मण्यम ने कहा कि राफेल से बेहतर कोई फाइटर प्लेन नहीं है। राफेल की उपयोगिता पर सवाल उठाना ठीक नहीं।

डॉ. शिवा सुब्रह्मण्यम सोमवार को भोपाल प्रवास के दौरान मीडिया से बात कर रहे थे। बता दें कि डॉ. शिवा सुब्रह्मण्यम उन वैज्ञानिकों में हैं, जिन्होंने न सिर्फ पोखरण के परमाणु विस्फोट के दौरान पूर्व राष्ट्रपति स्व. डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम की टीम में काम किया था, बल्कि नासा जैसी दुनिया की शीर्ष संस्था ने भी उनके सुझाव मानकर उनको सम्मान दिया। वे निजी प्रवास पर भोपाल आए थे।

उन्‍होंने कहा कि फाइटर प्लेन की दुनिया की सर्वश्रेष्ठ तकनीक जिन देशों के पास है, उनमें फ्रांस शामिल है। ऐसे में रफाल की तकनीक या उपयोगिता पर प्रश्न चिन्ह लगाना ठीक नहीं। कीमत के सवाल पर कहा कि अमेरिका और रूस भी ये प्लेन बनाते हैं पर रफाल की गुणवत्ता पर सवाल नहीं उठाया जा सकता है। उन्होंने डॉ. कलाम के बारे में कहा कि वे हमेशा सिर्फ बेस्ट ही चुनते थे। भारत के बारे में डॉ. शिवा सुब्रह्मण्यम ने कहा कि अब हमारा देश गरीब नहीं है।

तिरंगे के रंग में रंगकर अंतरिक्ष भेजा यान 
डॉ. सुब्रह्मण्यम ने कहा कि हमने पीएसएलवी में एक ऐसा प्रयोग किया था कि यान को तिरंगे के रंग में रंगकर अंतरिक्ष में भेजा गया था। उन्होंने बताया कि अंतरिक्ष में रंग भेजना नामुमकिन होता है पर हमारे द्वारा किया यह प्रयोग सफल रहा था।

मोदी सरकार की सराहना 
मोदी सरकार की सराहना करते हुए वरिष्ठ वैज्ञानिक ने कहा कि गगन यान प्रोजेक्ट लंबे समय से पेंडिंग था, लेकिन मोदी सरकार ने इस दस हजार करोड़ के प्रोजेक्ट को मंजूर कर ऐतिहासिक काम किया है।


OTHER NEWS