Please wait, loading...

Latest Updates


latest-post-marquee ग्राहक को जेब में पैसे के मुताबिक मिलेगी एलपीजी गैस, सरकार ने दिया विकल्‍प latest-post-marquee डिजिटल फार्मिंग से भरेगा दुनिया का पेट, बदल रही तकनीक, आधुनिक हो रहे किसान latest-post-marquee थाई बॉक्सिंग वर्ल्ड चैंपियन टिकेश्वरी ने कभी मनचलों को सिखाया था ऐसा सबक latest-post-marquee शोधार्थियों को फेलोशिप में बढोत्तरी को लेकर अब नहीं करना पड़ेगा आंदोलन latest-post-marquee एयरपोर्ट पर शक्ति कपूर से मिले क्रिकेटर युवराज सिंह, ये स्टार्स भी दिखे, देखें तस्वीरें latest-post-marquee फर्जी बिल के आधार पर न लें टैक्स छूट, भरना पड़ सकता है इतना जुर्माना latest-post-marquee SBI Small Account: कैसे खुलता है ये खाता, कितना मिलता है ब्याज, जानिए सब कुछ latest-post-marquee Ind vs NZ: हार्दिक पांड्या ने फिर किया ये कमाल, छुड़ा दिए न्यूज़ीलैंड के पसीने

Read Full News

Ujjain Accident : अंधे मोड़ ने ली 12 जानें, बिलखते परिजन बोले-मुआवजा मत दो, सड़क ठीक कर दो

भैरवगढ़ थाना क्षेत्र के रामगढ़ फंटे के समीप सोमवार देर रात हुए हादसे में एक ही परिवार के 12 लोगों की मौत के बाद मंगलवार को शहर में शोक छाया रहा। मृतकों में दो और सात साल की बालिकाएं भी शामिल हैं। पोस्टमार्टम के बाद एक साथ अर्थियां उठीं तो हर किसी की आंखें नम हो गईं।

प्राथमिक जांच में दुर्घटना का कारण आठ सीटर वैन में 12 सवारियों को बैठाना, सामने से आ रही तेज रफ्तार कार और सड़क पर अंधा मोड़ बताया गया है। शासन ने मृतकों के परिजन को दो-दो लाख रुपए की सहायता राशि देने को कहा है।

इधर, परिजन का कहना है कि सरकार मुआवजा न दे, सड़क ठीक करा दे। दुर्घटना पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री कमल नाथ ने ट्वीट कर शोक व्यक्त किया है। दोपहर में जिले के प्रभारी मंत्री सज्जनसिंह भी मृतकों के परिजनों को ढांढस बंधाने पहुंचे।

भाजपा कार्तिक चौक मंडल महामंत्री और केबल ऑपरेटर अर्जुन पिता लक्ष्मीनारायण कायत (48) निवासी महेश नगर सोमवार को परिवार के साथ नागदा में रिश्तेदार के यहां शादी समारोह में शामिल होने के लिए गए थे। सोमवार रात ही वे मारुति कार (एमपी 04-बीसी 1154) से उज्जैन लौट रहे थे।

कार उनका भतीजा चंचल पिता शिवनारायण कायत (22) निवासी तिलकेश्वर कॉलोनी चला रहा था। कार में अर्जुन की पुत्री अंजली कायत (20), पुत्र शुभम कायत (20), पत्नी राजूबाई कायत (45), अर्जुन की दूसरी पुत्री रविना पति राहुल खींची (22) निवासी बड़नगर और रविना की पुत्री कशिश उर्फ सिद्धि (2) के अलावा परिवार के ध्ार्मेंद्र पिता देवचंद कायत (38), सलोनी पिता धर्मेंद्र कायत (12) निवासी नगरकोट, राधिका पिता मनोज सांमरे (7) निवासी महेश नगर, तीजाबाई पति रमेशचंद्र सोलंकी (50) निवासी वृंदावनपुरा, कुलदीप पिता शिवनारायण कायत (22) निवासी तिलकेश्वर कॉलोनी सवार थे।

भैरवगढ़ थाना क्षेत्र के रामगढ़ फंटे पर सामने से तेज गति से आ रही कार (एमपी 13-सीसी 4123) ने टक्कर मार दी। इससे सभी की मौके पर ही मौत हो गई। दूसरी कार के एयर बैग खुलने से चालक विपिन पिता विश्राम निवासी प्रकाश नगर नागदा व उसका दोस्त विजय बच गया। हालांकि हादसे में चालक विपिन को भी गंभीर चोट लगी है। सोमवार रात को ही चिकित्सकों ने विपिन को इंदौर रैफर कर दिया था।

रामगढ़ फंटे पर तीन अंधे मोड़

उन्हेल मार्ग पर रामगढ़ फंटे तक तीन अंधे मोड़ हैं। करीब 40 डिग्री के मोड़ व मात्र 22 फीट चौड़ी डामर की सड़क है। सोमवार रात कार ने तेज गति से मारुति वैन को टक्कर मार दी। इससे वैन के परखच्चे उड़ गए थे।

सरकार ने कहा-जल्द ठीक कराएंगे सड़क

हादसे के बाद खराब सड़कों को ठीक कराने की बात शासन प्रशासन के नुमाइंदों ने कही है। प्रभारी मंत्री सज्जनसिंह वर्मा ने उज्जैन-जावरा व अन्य मार्गों पर जहां खराबी है उसे सात दिन के भीतर दुस्र्स्त करवाने का दावा किया है।

OTHER NEWS