Please wait, loading...

Latest Updates


latest-post-marquee ग्राहक को जेब में पैसे के मुताबिक मिलेगी एलपीजी गैस, सरकार ने दिया विकल्‍प latest-post-marquee डिजिटल फार्मिंग से भरेगा दुनिया का पेट, बदल रही तकनीक, आधुनिक हो रहे किसान latest-post-marquee थाई बॉक्सिंग वर्ल्ड चैंपियन टिकेश्वरी ने कभी मनचलों को सिखाया था ऐसा सबक latest-post-marquee शोधार्थियों को फेलोशिप में बढोत्तरी को लेकर अब नहीं करना पड़ेगा आंदोलन latest-post-marquee एयरपोर्ट पर शक्ति कपूर से मिले क्रिकेटर युवराज सिंह, ये स्टार्स भी दिखे, देखें तस्वीरें latest-post-marquee फर्जी बिल के आधार पर न लें टैक्स छूट, भरना पड़ सकता है इतना जुर्माना latest-post-marquee SBI Small Account: कैसे खुलता है ये खाता, कितना मिलता है ब्याज, जानिए सब कुछ latest-post-marquee Ind vs NZ: हार्दिक पांड्या ने फिर किया ये कमाल, छुड़ा दिए न्यूज़ीलैंड के पसीने

Read Full News

Bhayyuji Maharaj कार मामले में दोहरा रवैया, अब मंत्री से होगी शिकायत

इंदौर। भय्यू महाराज के ट्रस्ट की कार के मामले में परिवहन विभाग का दोहरा रवैया सामने आया है। एक ओर इस मामले को अधिकार क्षेत्र से बाहर बताकर ट्रस्ट के सचिव तुषार पाटिल की आपत्ति को खारिज कर दिया गया है, वहीं कुछ माह पहले एक सरकारी विभाग में अटैच एक वाहन का नामांतरण निरस्त किया गया था। पाटिल का कहना है कि मैं इस मामले को परिवहन मंत्री तक लेकर जाऊंगा। मैंने इसके लिए एफआईआर का ड्राफ्ट भी तैयार कर लिया है। इसमें परिवहन विभाग के अधिकारियों को भी आरोपी बनाने के लिए कहा गया है।

ट्रस्ट की कार के मामले में बुधवार को नया मोड़ आ गया था। आरटीओ जितेन्द्र सिंह रघुवंशी ने तुषार की आपत्ति को खारिज कर दिया था। सूत्रों का कहना है कि कुछ माह पहले एक सरकारी विभाग मंे भी ऐसा ही मामला हुआ था। तब उस कार का नामांतरण निरस्त किया गया था। एआरटीओ अर्चना मिश्रा ने दो माह चली अपनी जांच में भी ऐसी ही कार्रवाई की अनुशंसा की थी। लेकिन आरटीओ ने इसे अमान्य कर आवेदक तुषार को परिवहन आयुक्त या अन्य विकल्प में शिकायत करने के लिए कहा।

उल्लेखनीय है कि इस मामले में आरटीओ के एक बाबू देवेन्द्र बनवारिया को निलंबित कर दिया गया था। इधर गुरुवार को इस संबध में परिवहन विभाग के बाबुओं को जब इस बात की जानकारी मिली तो उनमें रोष फैल गया। उनका कहना था कि इस मामले में अधिकारियों ने उनके साथी बाबू को उलझा दिया है। जिन लोगों की गलती के कारण उसे हटाया गया, उन पर बिना कार्रवाई किए अधिकारियों ने हाथ पीछे खींच लिए हैं। बाबू इसके लिए अपने संगठन के माध्यम से परिवहन आयुक्त तक अपनी बात पहुंचाएंगे।

एफआईआर की तैयारी

तुषार पाटिल ने बताया कि मैंने इस मामले में शुरू से लड़ाई लड़ी है। मुझ पर शिकायत वापस लेने का भारी दबाव था। लेकिन मैं पीछे नहीं हटूंगा। ट्रस्ट के कार्यालय पर अभी आयुषी ने ताला लगा दिया है। वह जैसे ही ख्ाुलेगा, मैं ट्रस्ट के लेटरपैड पर हीरा नगर थाने में शिकायत करूंगा। कार ट्रस्ट की है और पैसा ट्रस्ट के खाते में आएगा। इसके लिए मुझे जहां तक शिकायत करना होगी, मैं करूंगा

वरिष्ठ अधिकारी नाराज

सूत्रों ने बताया कि इस पूरे घटनाक्रम को लेकर संभागीय परिवहन उप आयुक्त संजय सोनी भी नाराज हैं। इस मामले में लगातार खबरें छपने से विभाग की छवि खराब हुई है। जब बाबू पर सख्त कार्रवाई हो गई तो गड़बड़ी करने वालों को क्यों छोड़ दिया गया? ऐसे में तो कल से कोई भी विभाग में गलत दस्तावेज पेश कर गड़बड़ी करेगा। सोनी इसलिए भी नाराज हैं कि आरटीओ और एआरटीओ ने उन्हें इस मामले में कोई जानकारी नहीं दी। इसके अलावा परिवहन आयुक्त सीधे उनसे ही इस मामले की जानकारी लेते हैं।

OTHER NEWS